सीआरपीसी की धारा 19 क्या है | Section 19 CRPC in Hindi


सीआरपीसी की धारा 19  क्या है

दंड प्रक्रिया सहिता में महानगर मजिस्ट्रेटों का अधीनस्थ होनाइसका प्रावधान सीआरपीसी (CrPC) की धारा 19 में  किया गया है | यहाँ हम आपको ये बताने का प्रयास करेंगे कि दंड प्रक्रिया सहिता (CrPC) की धारा 19 के लिए किस तरह अप्लाई होगी | दंड प्रक्रिया सहिता यानि कि CrPC की धारा 19 क्या है ? इसके सभी पहलुओं के बारे में विस्तार से यहाँ समझने का प्रयास करेंगे | आशा है हमारी टीम द्वारा किया गया प्रयास आपको पसंद आ रहा होगा |

(CrPC Section 19) Dand Prakriya Sanhita Dhara 19 (महानगर मजिस्ट्रेटों का अधीनस्थ होना)

इस पेज पर दंड प्रक्रिया सहिता की धारा 19 में “महानगर मजिस्ट्रेटों का अधीनस्थ होनाइसके बारे में क्या प्रावधान बताये गए हैं ? इनके बारे में पूर्ण रूप से इस धारा में चर्चा की गई है | साथ ही दंड प्रक्रिया संहिता (CrPC) की धारा 19 कब नहीं लागू होगी ये भी बताया गया है ? इसको भी यहाँ जानेंगे, साथ ही इस पोर्टल www.nocriminals.org पर दंड प्रक्रिया संहिता (CrPC) की अन्य महत्वपूर्ण धाराओं के बारे में विस्तार से बताया गया है आप उन आर्टिकल के माध्यम से अन्य धाराओं के बारे में भी विस्तार से जानकारी  ले सकते हैं |

सीआरपीसी की धारा 10 क्या है



CrPC (दंड प्रक्रिया संहिता की धारा ) की धारा 19 के अनुसार :-

महानगर मजिस्ट्रेटों का अधीनस्थ होना–

(1) मुख्य महानगर मजिस्ट्रेट और प्रत्येक अपर मुख्य महानगर मजिस्ट्रेट सेशन न्यायाधीश के अधीनस्थ होगा और प्रत्येक अन्य महानगर मजिस्ट्रेट सेशन न्यायाधीश के साधारण नियंत्रण के अधीन रहते हुए मुख्य महानगर मजिस्ट्रेट के अधीनस्थ होगा।

(2) उच्च न्यायालय, इस संहिता के प्रयोजनों के लिए परिनिश्चित कर सकेगा कि अपर मुख्य महानगर मजिस्ट्रेट किस विस्तार तक, यदि कोई हो, मुख्य महानगर मजिस्ट्रेट के अधीनस्थ होगा।

(3) मुख्य महानगर मजिस्ट्रेट महानगर मजिस्ट्रेटों में कार्य के वितरण के बारे में और अपर मुख्य महानगर मजिस्ट्रेट को कार्य के आबंटन के बारे में, समय-समय पर, इस संहिता से संगत नियम बना सकेगा या विशेष आदेश दे सकेगा।

सीआरपीसी की धारा 9 क्या है

According to Section. 19 –“ Subordination of Metropolitan Magistrates  ”–

(1) The Chief Metropolitan Magistrate and every Additional Chief Metropolitan Magistrate shall be subordinate to the Sessions Judge; and every other Metropolitan Magistrate shall, subject to the general control of the Sessions Judge, be subordinate to the Chief Metropolitan Magistrate.

(2) The High Court may, for the purposes of this Code, define the extent of the subordination, if any, of the Additional Chief Metropolitan Magistrates to the Chief Metropolitan Magistrate.

(3) The Chief Metropolitan Magistrate may, from time to time, make rules or give special orders, consistent with this Code, as to the distribution of business among the Metropolitan Magistrates and as to the allocation of business to an Additional Chief Metropolitan Magistrate.

सीआरपीसी की धारा 8 क्या है 

आपको आज  दंड प्रक्रिया संहिता  की धारा 19 “महानगर मजिस्ट्रेटों का अधीनस्थ होनाइसके  बारे में जानकारी हो गई होगी | कैसे इस धारा को लागू किया जायेगा ?  इन सब के बारे में विस्तार से हमने उल्लेख किया है, यदि फिर भी इस धारा से सम्बन्धित या अन्य धाराओं से सम्बंधित किसी भी प्रकार की कुछ भी शंका आपके मन में हो या अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो आप  कमेंट बॉक्स के माध्यम से अपने प्रश्न और सुझाव हमें भेज सकते है |

सीआरपीसी की धारा 7 क्या है

यदि आप अपने सवाल का उत्तर प्राइवेट चाहते है तो आप अपना सवाल कांटेक्ट फॉर्म के माध्यम से पूछें |

Leave a Comment