सीआरपीसी की धारा 78 क्या है | Section 78 CRPC in Hindi


सीआरपीसी की धारा 78 क्या है

दंड प्रक्रिया सहिता में अधिकारिता के बाहर निष्पादन के लिए भेजा गया वारंटइसका प्रावधान सीआरपीसी (CrPC) की धारा 78 में  किया गया है | यहाँ हम आपको ये बताने का प्रयास करेंगे कि दंड प्रक्रिया सहिता (CrPC) की धारा 78 के लिए किस तरह अप्लाई होगी | दंड प्रक्रिया सहिता यानि कि CrPC की धारा 78 क्या है ? इसके सभी पहलुओं के बारे में विस्तार से यहाँ समझने का प्रयास करेंगे | आशा है हमारी टीम द्वारा किया गया प्रयास आपको पसंद आ रहा होगा |

(CrPC Section 78) Dand Prakriya Sanhita Dhara 78 (अधिकारिता के बाहर निष्पादन के लिए भेजा गया वारंट)

इस पेज पर दंड प्रक्रिया सहिता की धारा 78 में “अधिकारिता के बाहर निष्पादन के लिए भेजा गया वारंटइसके बारे में क्या प्रावधान बताये गए हैं ? इनके बारे में पूर्ण रूप से इस धारा में चर्चा की गई है | साथ ही दंड प्रक्रिया संहिता (CrPC) की धारा 78 कब नहीं लागू होगी ये भी बताया गया है ? इसको भी यहाँ जानेंगे, साथ ही इस पोर्टल www.nocriminals.org पर दंड प्रक्रिया संहिता (CrPC) की अन्य महत्वपूर्ण धाराओं के बारे में विस्तार से बताया गया है आप उन आर्टिकल के माध्यम से अन्य धाराओं के बारे में भी विस्तार से जानकारी  ले सकते हैं |

सीआरपीसी की धारा 43 क्या है 



CrPC (दंड प्रक्रिया संहिता की धारा ) की धारा 78 के अनुसार :-

अधिकारिता के बाहर निष्पादन के लिए भेजा गया वारंट

(1) जब वारंट का निष्पादन उसे जारी करने वाले न्यायालय की स्थानीय अधिकारिता के बाहर किया जाना है, तब वह न्यायालय ऐसा वारंट अपनी अधिकारिता के अंदर किसी पुलिस अधिकारी को निदिष्ट करने के बजाय उसे डाक द्वारा या अन्यथा किसी ऐसे कार्यपालक मजिस्ट्रेट या जिला पुलिस अधीक्षक या पुलिस आयुक्त को भेज सकता है जिसकी अधिकारिता का स्थानीय सीमाओं के अंदर उसका निष्पादन किया जाना है, और वह कार्यपालक मजिस्ट्रेट या जिला अधीक्षक या आयुक्त उस पर अपना नाम पृष्ठांकित करेगा और यदि साध्य है तो उसका निष्पादन इसमें इसके पूर्व उपबंधित रीति से कराएगा।

(2) उपधारा (1) के अधीन वारंट जारी करने वाला न्यायालय गिरफ्तार किए जाने वाले व्यक्ति के विरुद्ध ऐसी जानकारी का सार ऐसी दस्तावेजों सहित, यदि कोई हो, जो धारा 81 के अधीन कार्रवाई करने वाले न्यायालय को, यह विनिश्चित करने में कि उस व्यक्ति की जमानत मंजूर की जाए या नहीं समर्थ बनाने के लिए पर्याप्त हैं, वारंट के साथ भेजेगा।

सीआरपीसी की धारा 42 क्या है

According to Section. 78 – “ Warrant Forwarded For Execution Outside Jurisdiction ”–

(1) When a warrant is to be executed outside the local jurisdiction of the Court issuing it, such Court may, instead of directing the warrant to a police officer within its jurisdiction, forward it by post or otherwise to any Executive Magistrate or District Superintendent of Police or Commissioner of Police within the local limits of whose jurisdiction it is to be executed; and the Executive Magistrate or District Superintendent or Commissioner shall endorse his name thereon, and if practicable, cause it to be executed in the manner hereinbefore provided.

(2) The Court issuing a warrant under sub- section (1) shall forward, along with the warrant, the substance of the information against the person to be arrested together with such documents, if any, as may be sufficient to enable the Court acting under section 81 to decide whether bail should or should not be granted to the person.

सीआरपीसी की धारा 41 क्या है 

आपको आज  दंड प्रक्रिया संहिता  की धारा 78 “अधिकारिता के बाहर निष्पादन के लिए भेजा गया वारंटइसके  बारे में जानकारी हो गई होगी | कैसे इस धारा को लागू किया जायेगा ? इन सब के बारे में विस्तार से हमने उल्लेख किया है, यदि फिर भी इस धारा से सम्बन्धित या अन्य धाराओं से सम्बंधित किसी भी प्रकार की कुछ भी शंका आपके मन में हो या अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो आप  कमेंट बॉक्स के माध्यम से अपने प्रश्न और सुझाव हमें भेज सकते है |

सीआरपीसी की धारा 40 क्या है

यदि आप अपने सवाल का उत्तर प्राइवेट चाहते है तो आप अपना सवाल कांटेक्ट फॉर्म के माध्यम से पूछें |

Leave a Comment