साक्ष्य अधिनियम धारा 53 क्या है | Indian Evidence Section 53 in Hindi

साक्ष्य अधिनियम की धारा 53 क्या है

आज हम आपके लिए इस पेज पर साक्ष्य अधिनियम (Indian Evidence Act) की धारा 53 की जानकारी लेकर आये है | यहाँ हम आपको बताएँगे  कि साक्ष्य अधिनियम (Indian Evidence Act) की धारा 53 किस प्रकार से परिभाषित की गई है और इसका क्या अर्थ है ? साक्ष्य अधिनियम की धारा 53 क्या है, इसके बारे में आप यहाँ जानेंगे |

दाण्डिक मामलों में प्रवर्तन अच्छा शील सुसंगत है

इस पोर्टल के माध्यम से यहाँ साक्ष्य अधिनियम की धारा 53 क्या बताती है ? इसके बारे में पूर्ण रूप से बात होगी | साथ ही इस पोर्टल www.nocriminals.org पर अन्य साक्ष्य अधिनियम (Indian Evidence Act) की महत्वपूर्ण धाराओं के बारे में विस्तार से बताया गया है आप उन आर्टिकल के माध्यम से अन्य धाराओं के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं |

[Indian Evidence Act Sec. 53 in Hindi]

साक्ष्य अधिनियम धारा 40 क्या है

Indian Evidence Act (साक्ष्य अधिनियम) की धारा 53 के अनुसार :-

दाण्डिक मामलों में प्रवर्तन अच्छा शील सुसंगत है

दाण्डिक कार्यवाहियों में यह तथ्य सुसंगत है कि अभियुक्त व्यक्ति अच्छे शील का है।

According to Indian Evidence Act Section 53 – “In criminal cases previous good character relevant ”–

 In criminal proceedings, the fact that the person accused is of a good character, is relevant.

साक्ष्य अधिनियम धारा 39 क्या है

मित्रों उपरोक्त वर्णन से आपको आज साक्ष्य अधिनियम (Indian Evidence Act) की धारा 53 के बारे में जानकारी हो गई होगी | कैसे इस धारा को लागू किया जायेगा ?  इन सब के बारे में विस्तार से हमने उल्लेख किया है, यदि फिर भी इस धारा से सम्बन्धित या अन्य धाराओं से सम्बंधित किसी भी प्रकार की कुछ भी शंका आपके मन में हो या अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो आप  हमें  कमेंट बॉक्स के माध्यम से अपने प्रश्न और सुझाव हमें भेज सकते है | इसको अपने मित्रो के साथ शेयर जरूर करें |

साक्ष्य अधिनियम धारा 38 क्या है

यदि आप अपने सवाल का उत्तर प्राइवेट चाहते है तो आप अपना सवाल कांटेक्ट फॉर्म के माध्यम से पूछें |

Leave a Comment