सीआरपीसी की धारा 101 क्या है | Section 101 CRPC in Hindi


सीआरपीसी की धारा 101 क्या है

दंड प्रक्रिया सहिता में अधिकारिता के परे तलाशी में पाई गई चीजों का व्ययनइसका प्रावधान सीआरपीसी (CrPC) की धारा 101 में  किया गया है | यहाँ हम आपको ये बताने का प्रयास करेंगे कि दंड प्रक्रिया सहिता (CrPC) की धारा 101 के लिए किस तरह अप्लाई होगी | दंड प्रक्रिया सहिता यानि कि CrPC की धारा 101 क्या है ? इसके सभी पहलुओं के बारे में विस्तार से यहाँ समझने का प्रयास करेंगे | आशा है हमारी टीम द्वारा किया गया प्रयास आपको पसंद आ रहा होगा |



(CrPC Section 101) Dand Prakriya Sanhita Dhara 101 (अधिकारिता के परे तलाशी में पाई गई चीजों का व्ययन)

इस पेज पर दंड प्रक्रिया सहिता की धारा 101 में “अधिकारिता के परे तलाशी में पाई गई चीजों का व्ययनइसके बारे में क्या प्रावधान बताये गए हैं ? इनके बारे में पूर्ण रूप से इस धारा में चर्चा की गई है | साथ ही दंड प्रक्रिया संहिता (CrPC) की धारा 101 कब नहीं लागू होगी ये भी बताया गया है ? इसको भी यहाँ जानेंगे, साथ ही इस पोर्टल www.nocriminals.org पर दंड प्रक्रिया संहिता (CrPC) की अन्य महत्वपूर्ण धाराओं के बारे में विस्तार से बताया गया है आप उन आर्टिकल के माध्यम से अन्य धाराओं के बारे में भी विस्तार से जानकारी  ले सकते हैं |

सीआरपीसी की धारा 91 क्या है 



CrPC (दंड प्रक्रिया संहिता की धारा ) की धारा 101 के अनुसार :-

अधिकारिता के परे तलाशी में पाई गई चीजों का व्ययन–

जब तलाशी-वारंट को किसी ऐसे स्थान में निष्पादित करने में, जो उस न्यायालय की जिसने उसे जारी किया है, स्थानीय अधिकारिता से परे है, उन चीजों में से, जिनके लिए तलाशी ली गई है, कोई चीजें पाई जाएं तब वे चीजें, इसमें इसके पश्चात् अंतर्विष्ट उपबंधों के अधीन तैयार की गई, उनकी सूची के सहित उस न्यायालय के समक्ष, जिसने वारंट जारी किया था तुरंत ले जाई जाएंगी किंतु यदि बह् स्थान ऐसे न्यायालय की अपेक्षा उस मजिस्ट्रेट के अधिक समीप है, जो वहां अधिकारिता रखता है, तो सूची और चीजें उस मजिस्ट्रेट के समक्ष तुंरत ले जाई जाएंगी और जब तक तत्प्रतिकूल अच्छा कारण न हो, वह मजिस्ट्रेट उन्हें ऐसे न्यायालय के पास ले जाने के लिए प्राधिकृत करने का आदेश देगा।

सीआरपीसी की धारा 47 क्या है

According to Section. 101 – “ Disposal of Things Found in Search Beyond Jurisdiction”–

When, in the execution of a search- warrant at any place beyond the local jurisdiction of the Court which issued the same, any of the things for which search is made, are found, such things, together with the list of the same prepared under the provisions hereinafter contained, shall be immediately taken before the Court issuing the warrant, unless such place is nearer to the Magistrate having jurisdiction therein than to such Court, in which case the list and things shall be immediately taken before such Magistrate; and, unless there be good cause to the contrary, such Magistrate shall make an order authorising them to be taken to such Court.

सीआरपीसी की धारा 46 क्या है

आपको आज  दंड प्रक्रिया संहिता  की धारा 101 “अधिकारिता के परे तलाशी में पाई गई चीजों का व्ययनइसके  बारे में जानकारी हो गई होगी | कैसे इस धारा को लागू किया जायेगा ?  इन सब के बारे में विस्तार से हमने उल्लेख किया है, यदि फिर भी इस धारा से सम्बन्धित या अन्य धाराओं से सम्बंधित किसी भी प्रकार की कुछ भी शंका आपके मन में हो या अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो आप  कमेंट बॉक्स के माध्यम से अपने प्रश्न और सुझाव हमें भेज सकते है |

सीआरपीसी की धारा 45 क्या है

यदि आप अपने सवाल का उत्तर प्राइवेट चाहते है तो आप अपना सवाल कांटेक्ट फॉर्म के माध्यम से पूछें |
Leave a Comment