आईपीसी धारा 509 क्या है | IPC 509 in Hindi | धारा 509 में सजा और जमानत

आईपीसी धारा 509 क्या है

आज हमें देखने को मिलता है कि महिलाओं पर अत्याचार हर तरह से समाज में बढ़ रहा है जिसको रोकने के लिए कई तरह के कानून सरकार द्वारा लाये गए हैं आज हम इसकी के सन्दर्भ में इस लेख के माध्यम से  उस महत्वपूर्ण धारा के बारे में विस्तार से जानेगे जिसको समझना एक लॉ स्टूडेंट के लिए नहीं बल्कि महिलाओं को भी उतना ही जरूरी है हम इस लेख में बायत करने जा रहे है  IPC की धारा 509 के बारे में, यहाँ हम पूरी चर्चा करेंगे कि  IPC (आईपीसी) की धारा 509 क्या है, IPC की इस धारा 509 के अंतर्गत क्या अपराध आता है साथ ही इस धारा 509 में  सजा का क्या प्रावधान बताया गया है | इसमें जमानत से सम्बंधित क्या नियम है इस विषय को भी हम यहाँ ठीक से समझेंगे |

IPC (भारतीय दंड संहिता की धारा ) की धारा 509 के अनुसार :-

IPC की धारा 509 के अनुसार, “जो कोई किसी स्त्री की लज्जा का अनादर करने के आशय से कोई शब्द कहेगा, कोई ध्वनि या अंग विक्षेप करेगा, या कोई वस्तु प्रदर्शित करेगा, इस आशय से कि उस स्त्री द्वारा ऐसा शब्द या ध्वनि सुनी जाए, या ऐसा अंगविक्षेप या वस्तु देखी जाए, अथवा उस स्त्री की एकान्तता का अतिक्रमण करेगा, तो उसे किसी एक अवधि के लिए साधारण कारावास की सजा जिसे तीन वर्ष तक बढ़ाया जा सकता है, या आर्थिक दंड, या दोनों से, दण्डित किया जाएगा “।

Section 509 IPC, as defined under the code states as

“Whoever intending to insult the modesty of a woman, utters any word, makes any sound, or gesture, or exhibits any object, intending that such word or sound shall be heard, or that such gesture or object shall be seen, by such woman, or intrudes upon the privacy of such woman, shall be punished with simple imprisonment for a term which may extend to three years, and also with fine”. 

भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 509 का अर्थ

इस धारा के अंतरगत बताया गया है कि जब भी किसी स्त्री की लज्जा का अनादर करने के आशय से किसी व्यक्ति द्वारा कोई शब्द कहना या अंगविक्षेप करना दंडनीय अपराध की श्रेणी में आएगा अर्थात ऐसा करना अपराध माना जायेगा । जिसके लिए सजा का प्रावधान है इसको चर्चा हम आगे करेंगे आपको बता दें कि यह एक जमानती, संज्ञेय अपराध है और किसी भी मजिस्ट्रेट द्वारा विचारणीय है।

आईपीसी की धारा 509 में सजा (Punishment) क्या होगी

यहाँ अपराध जो किसी स्त्री की लज्जा का अनादर करने पर घटित होगा इसके लिए सजा – तीन वर्ष साधारण कारावास या आर्थिक दंड या दोनों का प्रावधान किया गया है | आपको बता दें कि यह एक जमानती, संज्ञेय अपराध है और यह किसी भी मजिस्ट्रेट द्वारा विचारणीय है।    

आईपीसी (IPC) की धारा 509 में  जमानत  (BAIL) का प्रावधान

अब आइये जानते हैं कि इस धारा में जमानत के क्या प्रावधान बताये गए हैं यहाँ हम देखते है कि INDIAN PANEL CODE की धारा 509 के अंतरगत कोई भी ऐसा शब्द बोलना या किसी स्त्री के शील का अपमान करने का इरादा से कोई इशारा करना आदि इस धारा के अंतरगत अपराध कहलायेगा इस अपराध की प्रकृति जमानती है | आपको बताते चलें यहाँ पर कि यह अपराध न्यायालय की अनुमति से पीड़ित महिला (जिसकी लज्जा का अनादर या एकान्तता का अतिक्रमण हुआ है) द्वारा समझौता करने योग्य है |

आपने यहाँ इस लेख कि माध्यम से IPC की धारा 509 के विषय में  सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त की यदि फिर भी इस धारा से सम्बन्धित कुछ भी शंका आपके मन में हो या इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो आप हमसे बेझिझक पूँछ सकते है |

Leave a Comment