आईपीसी धारा 52 क्या है | IPC Section 52 in Hindi – विवरण (शपथ )

आईपीसी धारा 52 क्या है

आज हम आपके लिए इस पेज पर भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 52 की जानकारी लेकर आये है | यहाँ हम आपको बताएँगे  कि भारतीय दंड सहिता (IPC) की धारा 52 किस प्रकार से परिभाषित की गई है और इसका क्या अर्थ है ? भारतीय दंड संहिता यानि कि आईपीसी (IPC)  की धारा 52 क्या है,  इसके बारे में आप यहाँ जानेंगे |

इस पोर्टल के माध्यम से यहाँ धारा 52 क्या बताती है ? इसके बारे में पूर्ण रूप से बात होगी | साथ ही इस पोर्टल www.nocriminals.org पर अन्य भारतीय दंड संहिता (IPC) की महत्वपूर्ण धाराओं के बारे में विस्तार से बताया गया है आप उन आर्टिकल के माध्यम से अन्य धाराओं के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं |

आईपीसी धारा 48 क्या है 

IPC (भारतीय दंड संहिता की धारा ) की धारा 52 के अनुसार :-

सद्भावपूर्वक

कोई बात ” सदभावनापूर्वक ” की गयी या विशवास की गयी नहीं की गयी कही जाती जो सम्यक सतर्कता और ध्यान के बिना की गयी या विश्वास की गयी हो ।

According to Section 52 –    “Good faith”–

“Nothing is said to be done or believed in “good faith” which is done or believed without due care and attention.”

आईपीसी धारा 49 क्या है

मित्रों उपरोक्त वर्णन से आपको आज भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 52 के बारे में जानकारी हो गई होगी | कैसे इस धारा को लागू किया जायेगा ?  इन सब के बारे में विस्तार से हमने उल्लेख किया है, यदि फिर भी इस धारा से सम्बन्धित या अन्य धाराओं से सम्बंधित किसी भी प्रकार की कुछ भी शंका आपके मन में हो या अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो आप  हमें  कमेंट  बॉक्स  के  माध्यम  से अपने प्रश्न और सुझाव हमें भेज सकते है | इसको अपने मित्रो के साथ शेयर जरूर करें |

आईपीसी धारा 50 क्या है

आईपीसी धारा 1 क्या है
आईपीसी धारा 2 क्या है 
आईपीसी धारा 3 क्या है
आईपीसी धारा 4 क्या है
आईपीसी धारा 5 क्या है
आईपीसी धारा 6 क्या है
आईपीसी धारा 7 क्या है
आईपीसीधाराक्याहै
आईपीसीधाराक्याहै
आईपीसीधारा10 क्याहै
आईपीसीधारा11 क्याहै
आईपीसीधारा12 क्याहै
आईपीसीधारा13 क्याहै
आईपीसीधारा14 क्याहै
आईपीसीधारा15 क्याहै
आईपीसी धारा 16 क्या है
आईपीसी धारा 17 क्या है
आईपीसी धारा 18 क्या है
आईपीसी धारा 19 क्या है
आईपीसी धारा 20 क्या है

आईपीसी धारा 51 क्या है

Leave a Comment