आईपीसी धारा 430 क्या है | IPC Section 430 in Hindi – विवरण सजा का प्रावधान


आईपीसी धारा 430 क्या है

आज हम आपके लिए इस पेज पर भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 430 की जानकारी लेकर आये है | यहाँ हम आपको बताएँगे  कि भारतीय दंड सहिता (IPC) की धारा 430 किस प्रकार से परिभाषित की गई है और इसका क्या अर्थ है ? भारतीय दंड संहिता यानि कि आईपीसी (IPC)  की धारा 430 क्या है,  इसके बारे में आप यहाँ जानेंगे |

सिंचन संकर्म को क्षति करने या जल को दोषपूर्वक मोड़ने दारा रिष्टि

इस पोर्टल के माध्यम से यहाँ धारा 430 क्या बताती है ? इसके बारे में पूर्ण रूप से बात होगी | साथ ही इस पोर्टल www.nocriminals.org पर अन्य भारतीय दंड संहिता (IPC) की महत्वपूर्ण धाराओं के बारे में विस्तार से बताया गया है आप उन आर्टिकल के माध्यम से अन्य धाराओं के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं |


आईपीसी धारा 406 क्या है

IPC (भारतीय दंड संहिता की धारा) की धारा 430 के अनुसार :-

सिंचन संकर्म को क्षति करने या जल को दोषपूर्वक मोड़ने दारा रिष्टि

जो कोई किसी ऐसे कार्य के करने द्वारा रिष्टि करेगा, जिससे कृषिक प्रयोजनो के लिए. या मानव प्राणियों के या उन जीवजन्तुओं केजो सम्पत्ति है, खाने या पीने के, या सफाई के या किसी विनिर्माण को चलाने के जलप्रदाय में कमी कारित होती हो या कमी कारित होना वह सम्भाव्य जानता हो वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि पांच वर्ष तक की हो सकेगी, या जुर्माने से, या दोनों से, दंडित किया जाएगा ।

Section 430 – “Mischief by injury to works of irrigation or by wrongfully diverting water”–

“Whoever commits mischief by doing any act which causes, or which he knows to be likely to cause, a diminution of the supply of water for agricultural purposes, or for food or drink for human beings or for animals which are property, or for cleanliness or for carrying on any manufacture, shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to five years, or with fine, or with both.”

आईपीसी धारा 408 क्या है

लागू अपराध

सिंचन संकर्म को क्षति करने या जल को दोषपूर्वक मोड़ने दारा रिष्टि

सजा – 5 वर्ष कारावास या आर्थिक दण्ड या दोनों हो सकते हैं |

यह एक जमानती, संज्ञेय अपराध है और प्रथम श्रेणी मजिस्ट्रेट द्वारा विचारणीय है।

आईपीसी धारा 409 क्या है

आईपीसी की धारा 430 में सजा (Punishment) क्या होगी

यहाँ भारतीय दंड संहिता में धारा 430 किये गए अपराध के लिए सजा को निर्धारित किया गया हैं | जो इस प्रकार है – सिंचन संकर्म को क्षति करने या जल को दोषपूर्वक मोड़ने दारा रिष्टि, उसको 5 वर्ष कारावास या आर्थिक दण्ड या दोनों से दण्डित |

आईपीसी धारा 411 क्या है

आईपीसी (IPC) की धारा 430 में  जमानत  (BAIL) का प्रावधान

भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 430 में जिस अपराध की सजा के बारे में बताया गया है उस अपराध को एक जमानती अपराध बताया गया है | यहाँ आपको मालूम होना चाहिए कि जमानतीय अपराध होने पर इसमें जमानत मिल जाती है, क्योंकी CrPC में यह जमानतीय अपराध बताया गया है ।

आईपीसी धारा 419 क्या है 

मित्रों उपरोक्त वर्णन से आपको आज भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 430 के बारे में जानकारी हो गई होगी | कैसे इस धारा को लागू किया जायेगा ?  इन सब के बारे में विस्तार से हमने उल्लेख किया है, यदि फिर भी इस धारा से सम्बन्धित या अन्य धाराओं से सम्बंधित किसी भी प्रकार की कुछ भी शंका आपके मन में हो या अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो आप  हमें  कमेंट  बॉक्स  के  माध्यम  से अपने प्रश्न और सुझाव हमें भेज सकते है | इसको अपने मित्रो के साथ शेयर जरूर करें |

आईपीसी धारा 420 क्या है

अपराधसजासंज्ञेयजमानतविचारणीय
सिंचन संकर्म को क्षति करने या जल को दोषपूर्वक मोड़ने दारा रिष्टि5 वर्ष कारावास या आर्थिक दण्ड या दोनोंसंज्ञेयजमानतीयप्रथम श्रेणी मजिस्ट्रेट द्वारा विचारणीय (ट्रायल किया जा सकता)

आईपीसी धारा 427 क्या है

यदि आप अपने सवाल का उत्तर प्राइवेट चाहते है तो आप अपना सवाल कांटेक्ट फॉर्म के माध्यम से पूछें |

Leave a Comment