आईपीसी धारा 156 क्या है | IPC Section 156 in Hindi – विवरण, सजा का प्रावधान

आईपीसी धारा 156 क्या है

जब कभी किसी ऐसे व्यक्ति के फायदे के लिए या उसकी ओर से उपद्रव किया जाए तब यह अपराध के श्रेणी में आता है भारतीय दंड संहिता में एक अपराध माना गया है और इसके लिए दण्ड का प्रावधान (IPC) की धारा 156 में  किया गया है | यहाँ हम आपको ये बताने का प्रयास करेंगे कि भारतीय दंड सहिता (IPC) की धारा 156 किस तरह अप्लाई होगी | भारतीय दंड संहिता यानि कि IPC की धारा 156 क्या है ? इसके सभी पहलुओं के बारे में विस्तार से यहाँ समझने का प्रयास करेंगे | आशा है हमारी टीम द्वारा किया गया प्रयास आपको पसंद आ रहा होगा |

आईपीसी धारा 151 क्या है

(IPC Section 156) उस स्वामी या अधिभोगी के अभिकर्ता का दायित्व, जिसके फायदे के लिए बल्वा किया जाता है–

इस पेज पर भारतीय दंड सहिता की धारा 156 के बारे में क्या प्रावधान बताये गए हैं, और इसमें कितनी सजा देने की बात कही गई है? साथ ही भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 156 में जमानत के बारे में क्या बताया गया है ? इसको भी यहाँ जानेंगे, साथ ही इस पोर्टल www.nocriminals.org पर अन्य महत्वपूर्ण धाराओं के बारे में विस्तार से बताया गया है आप उन आर्टिकल के माध्यम से अन्य धाराओं के बारे में भी विस्तार से जानकारी  ले सकते हैं |

आईपीसी धारा 149 क्या है

IPC (भारतीय दंड संहिता की धारा ) की धारा 156 के अनुसार :-

उस स्वामी या अधिभोगी के अभिकर्ता का दायित्व, जिसके फायदे के लिए बल्वा किया जाता है–

“ जब कभी ऐसे व्यक्ति के फायदे के लिए या ऐसे व्यक्ति की ओर से बल्वा किया जाए, जो किसी भूमि का, जिसके विषय में ऐसा बल्वा हो, स्वामी हो या अधिभोगी हो या जो ऐसी भूमि में या बल्वे के पैदा करने वाले किसी विवादग्रस्त विषय में कोई हित रखने का दावा करता हो या जो उससे कोई फायदा प्रतिगृहीत कर या पा चुका हो,

तब उस व्यक्ति का अभिकर्ता या प्रबंधक जुर्माने से दंडनीय होगा, यदि ऐसा अभिकर्ता या प्रबंधक यह विश्वास करने का कारण रखते हुए कि ऐसे बल्वे का किया जाना सम्भाव्य था या कि जिस विधिविरुद्ध जमाव द्वारा ऐसा बल्वा किया गया था. उसका किया जाना सम्भाव्य था, अपनी शक्ति-भर सब विधिपूर्ण साधनों का ऐसे बल्वे या जमाव का किया जाना निवारित करने के लिए और उसको दबाने और बिखरने के लिए उपयोग नहीं करता या करते “|

Section. 156 – “Liability of agent of owner or occupier for whose benefit riot is committed”–

“Whenever a riot is committed for the benefit or on behalf of any person who is the owner or occupier of any land respecting which such riot takes place, or who claims any interest in such land, or in the subject of any dispute which gave rise to the riot, or who has accepted or derived any benefit therefrom, the agent or manager of such person shall be punishable with fine, if such agent or manager, having reason to believe that such riot was likely to be committed, or that the unlawful assem­bly by which such riot was committed was likely to be held, shall not use all lawful means in his power to prevent such riot or assembly from taking place and for suppressing and dispersing the same”.

आईपीसी धारा 147 क्या है

लागू अपराध (IPC Section 156)

स्वामी या अधिवासी जिसके फायदे के लिए उपद्रव किया गया हो के अभिकर्ता का उपद्रव के निवारण के लिए क़ानूनी साधनों का उपयोग न करना।

सजा – आर्थिक दण्ड से दण्डित किया जायेगा। ।

यह एक जमानती, गैर-संज्ञेय अपराध है और किसी भी मजिस्ट्रेट  द्वारा विचारणीय है।

यह अपराध समझौता करने योग्य नहीं है।

आईपीसी धारा 144 क्या है 

आईपीसी की धारा 156 में सजा (Punishment) क्या होगी

स्वामी या अधिवासी जिसके फायदे के लिए उपद्रव किया गया हो के अभिकर्ता का उपद्रव के निवारण के लिए क़ानूनी साधनों का उपयोग न  करना अपराध माना गया है , इसके लिए दंड का निर्धारण  भारतीय दंड संहिता में धारा 156 के तहत किया गया है | यहाँ भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 156 में इसके लिए आर्थिक दण्ड दिया जायेगा

आईपीसी धारा 143 क्या है

आईपीसी (IPC) की धारा 156 में  जमानत  (BAIL) का प्रावधान

भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 156 में जिस अपराध की सजा के बारे में बताया गया है उस अपराध को एक जमानती और गैर- संज्ञेय अपराध बताया गया है | यहाँ आपको मालूम होना चाहिए कि जमानतीय अपराध होने पर इसमें जमानत मिल  जाएगी ,  क्योकि  इसको CrPC में गैर- संज्ञेय श्रेणी का जमानतीय अपराध में बताया गया है |

आपको आज भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 156 के बारे में जानकारी हो गई होगी | इसमें  क्या अपराध बनता है, कैसे इस धारा को लागू किया जायेगा | इस अपराध को कारित करने पर क्या सजा होगी ?  इन सब के बारे में विस्तार से हमने उल्लेख किया है, साथ ही इसमें जमानत के क्या प्रावधान होंगे ? यदि फिर भी इस धारा से सम्बन्धित या अन्य धाराओं से सम्बंधित किसी भी प्रकार की कुछ भी शंका आपके मन में हो या अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो आप  हमें  कमेंट बॉक्स के माध्यम से अपने प्रश्न और सुझाव हमें भेज सकते है |

आईपीसी धारा 182 क्या है

अपराधसजासंज्ञेयजमानतविचारणीय
मालिक या कब्जे का एजेंट जिसके लाभ के लिए दंगा होता है, उसे रोकने के लिए सभी वैध साधनों का उपयोग नहीं किया जाता हैआर्थिक दण्ड से दण्डितगैर – संज्ञेयजमानतीयकिसी भी मजिस्ट्रेट  द्वारा विचारणीय (ट्रायल किया जा सकता)

आईपीसी धारा 193 क्या है

Leave a Comment