आईपीसी धारा 292 क्या है | IPC Section 292 in Hindi – विवरण, सजा का प्रावधान

आईपीसी धारा 292 क्या है

भारतीय दंड संहिता में अश्लील पुस्तकों आदि का विक्रय आदि करना” एक अपराध माना गया है और इसको (IPC) की धारा 292 में परिभाषित (डिफाइन) किया गया है | यहाँ हम आपको ये बताने का प्रयास करेंगे कि भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 292 किस तरह अप्लाई होगी | भारतीय दंड संहिता यानि कि IPC की धारा 292 क्या है ? इसके सभी पहलुओं के बारे में विस्तार से यहाँ समझने का प्रयास करेंगे | आशा है हमारी टीम द्वारा किया गया प्रयास आपको पसंद आ रहा होगा |

आईपीसी धारा 201 क्या है

(IPC Section 292) अश्लील पुस्तकों आदि का विक्रय करना

समाज में अश्लीलता फ़ैलाने पर आईपीसी की धारा 292 लागू होगी | इस पेज पर भारतीय दंड सहिता की धारा 292 में “अश्लील पुस्तकों आदि का विक्रय आदि करना” एक अपराध है, और इस अपराध  के बारे में क्या प्रावधान बताये गए हैं, और इसमें कितनी सजा देने की बात कही गई है? इनके बारे में पूर्ण रूप से इस धारा में चर्चा की गई है | साथ ही भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 292 में जमानत के बारे में क्या बताया गया है ? इसको भी यहाँ जानेंगे, साथ ही इस पोर्टल www.nocriminals.org पर अन्य महत्वपूर्ण धाराओं के बारे में विस्तार से बताया गया है आप उन आर्टिकल के माध्यम से अन्य धाराओं के बारे में भी विस्तार से जानकारी  ले सकते हैं |

आईपीसी धारा 279 क्या है

IPC (भारतीय दंड संहिता की धारा ) की धारा 292 के अनुसार :-

अश्लील पुस्तकों आदि का विक्रय–

(1) उपधारा (2) के प्रयोजनार्थ किसी पुस्तक, पुस्तिका, कागज, लेख, रेखाचित्र, रंगचित्र रूपण, आकृति या अन्य वस्तु को अश्लील समझा जाएगा यदि वह कामोद्दीपक है या कामुक व्यक्तियों के लिए रुचिकर है या उसका या (जहां उसमें दो या अधिक सुभिन्न मदें समाविष्ट हैं वहां) उसकी किसी मद का प्रभाव, समग्र रूप से विचार करने पर ऐसा है जो उन व्यक्तियों को दुराचारी या भ्रष्ट बनाए जिनके द्वारा उसमें अन्तर्विष्ट या सन्निविष्ट विषय का पढ़ा जाना, देखा जाना या सुना जाना सभी सुसंगत परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए सम्भाव्य है |] [(2)] जो कोई–

(क) किसी अश्लील पुस्तक पुस्तिका, कागज, रेखाचित्र, रंगचित्र, रुपण या आकृति या किसी भी अन्य अश्लील वस्तु को, चाहे वह कुछ भी हो. बेचेगा, भाडे पर देगा, वितरित करेगा. लोक प्रदर्शित करेगा, या उसको किसी भी प्रकार प्रचालित करेगा, या उसे विक्रय, भाडे, वितरण लोक प्रदर्शन या परिचालन के प्रयोजनों के लिए रचेगा, उत्पादित करेगा, या अपने कब्जे में रखेगा, अथवा

(ख) किसी अश्लील वस्तु का आयात या निर्यात या प्रवहण पूर्वोक्त प्रयोजनों में से किसी प्रयोजन के लिए करेगा या यह जानते हुए. या यह विश्वास करने का कारण रखते हुए करेगा कि ऐसी वस्तु बेची, भाडे पर दी, वितरित या लोक प्रदर्शित या, किसी प्रकार से परिचालित की जाएगी, अथवा

(ग) किसी ऐसे कारखार में भाग लेगा या उससे लाभ प्राप्त करेगा, जिस कारखार में वह यह जानता है या यह विश्वास करने का कारण रखता है कि कोई ऐसी अश्लील वस्तुएं पूर्वोक्त प्रयाजनों में से किसी प्रयोजन के लिए रची जाती, उत्पादित की जाती, क्रय की जातीं, रखी जातीं, आयात की जाती, निर्यात की जाती, प्रवहण की जाती, लोक प्रदर्शित की जाती या किसी भी प्राकर से परिचालित की जाती हैं, अथवा

(घ) यह विज्ञापित करेगा या किन्हीं साधनों द्वारा वे चाहे कुछ भी हों यह ज्ञात कराएगा कि कोई व्यक्ति किसी ऐसे कार्य में, जो इस धारा के अधीन अपराध है. लगा हुआ है, या लगने के लिए तैयार है, या यह कि कोई ऐसी अश्लील वस्तु किसी व्यक्ति से या किसी व्यक्ति के द्वारा प्राप्त की जा सकती है, अथवा

(ङ) किसी ऐसे कार्य को, जो इस धारा के अधीन अपराध है, करने की प्रस्थापना करेगा या करने का प्रयत्न करेगा. प्रथम दोषसिद्धि पर दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि दो वर्ष तक की हो सकेगी और जुर्माने से, जो दो हजार रुपए तक को हो सकेगा, तथा द्वितीय या पश्चात्वर्ती दोषसिद्धि की दशा में दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि पांच वर्ष तक की हो सकेगी और जुर्माने से भी, जो पांच हजार रुपए तक का हो सकेगा] दण्डित किया जाएगा |

नोट  : * [अपवाद – इस धारा का विस्तार निम्नलिखित पर न होगा –

(क) कोई ऐसी पुस्तक, पुस्तिका, कागज, लेख, रेखाचित्र, रंगचित्र, रूपण या आकृति–

(i) जिसका प्रकाशन लोकहित में होने के कारण इस आधार पर न्यायोचित साबित हो गया है कि ऐसी पुस्तक, पुस्तिका, कागज, लेख, रेखाचित्र, रंगचित्र, रुपण या आकृति विज्ञान, साहित्य, कला या विद्या या सर्वजन सम्बन्धी अन्य उद्देश्यों के हित में है, अथवा

(ii) जो सद्भावपूर्वक धार्मिक प्रयाजनों के लिए रखी या उपयोग में लाई जाती है;

(ख) कोई ऐसा रूपण जो–

(i) प्राचीन संस्मारक तथा पुरातत्वीय स्थल और अवशेष अधिनियम, 1958 (1958 का 24) के अर्थ में प्राचीन संस्मारक पर या उसमें, अथवा

(ii) किसी मंदिर पर या उसमें या मूर्तियों के प्रवहण के उपयोग में लाए जाने वाले या किसी धार्मिक प्रयोजन के लिए रखे या उपयोग में लाए जाने वाले किसी रथ पर

तक्षित. उत्कीर्ण, रंगचित्रित या अन्यथा रुपित हों

According to Section. 292 – “Sale, etc., of obscene books, etc ”–

(1) For the purposes of sub-section (2), a book, pamphlet, paper, writing, drawing, painting, representation, figure or any other object, shall be deemed to be obscene if it is lascivious or appeals to the pruri­ent interest or if its effect, or (where it comprises two or more distinct items) the effect of any one of its items, is, if taken as a whole, such as to tend to deprave and corrupt person, who are likely, having regard to all relevant circumstances, to read, see or hear the matter contained or embodied in it.]

 (2) [Whoever—

(a) sells, lets to hire, distributes, publicly exhibits or in any manner puts into circulation, or for purposes of sale, hire, distribution, public exhibition or circulation, makes, produces or has in his possession any obscene book, pamphlet, paper, drawing, painting, representation or figure or any other obscene object whatsoever, or

(b) imports, exports or conveys any obscene object for any of the purposes aforesaid, or knowing or having reason to believe that such object will be sold, let to hire, distributed or publicly exhibited or in any manner put into circulation, or

(c) takes part in or receives profits from any business in the course of which he knows or has reason to believe that any such obscene objects are for any of the purposes aforesaid, made, produced, purchased, kept, imported, exported, conveyed, publicly exhibited or in any manner put into circulation, or

(d) advertises or makes known by any means whatsoever that any person is engaged or is ready to engage in any act which is an offence under this section, or that any such obscene object can be procured from or through any person, or

(e) offers or attempts to do any act which is an offence under this section, shall be punished 263 [on first conviction with im­prisonment of either description for a term which may extend to two years, and with fine which may extend to two thousand rupees, and, in the event of a second or subsequent conviction, with imprisonment of either description for a term which may extend to five years, and also with fine which may extend to five thousand rupees].

(Exception) —This section does not extend to—

(a) any book, pamphlet, paper, writing, drawing, painting, repre­sentation or figure—

(i) the publication of which is proved to be justified as being for the public good on the ground that such book, pamphlet, paper, writing, drawing, painting, representation or figure is in the interest of science, literature, art or learning or other objects of general concern, or

(ii) which is kept or used bona fide for religious purposes;

(b) any representation sculptured, engraved, painted or otherwise represented on or in—

(i) any ancient monument within the meaning of the Ancient Monu­ments and Archaeological Sites and Remains Act, 1958 (24 of 1958), or

(ii) any temple, or on any car used for the conveyance of idols, or kept or used for any religious purpose.

आईपीसी धारा 294 क्या है 

लागू अपराध (IPC Section 292)

अश्लील पुस्तकों आदि का विक्रय आदि करना।

सजा पहली बार दोषसिद्धि होने पर 2 वर्ष का कारावास + 2 हजार रुपए आर्थिक दण्ड,

दूसरी बार या उसके बाद अर्थात पश्चात्वर्ती दोषसिद्धि पर 5 वर्ष कारावास + 5 हजार रुपए आर्थिक दण्ड।

यह एक जमानती, संज्ञेय अपराध है और किसी भी मेजिस्ट्रेट द्वारा विचारणीय है।

यह समझौता करने योग्य नहीं है।

आईपीसी धारा 302 क्या है

आईपीसी की धारा 292 में सजा (Punishment) क्या होगी

अश्लील पुस्तकों आदि का विक्रय आदि करना, अपराध माना गया है , उसके लिए दंड का निर्धारण भारतीय दंड संहिता में धारा 292 के तहत किया गया है | यहाँ भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 292 में अश्लील पुस्तकों आदि का विक्रय आदि करने पर पहली बार दोषसिद्धि होने पर 2 वर्ष का कारावास + 2 हजार रुपए आर्थिक दण्ड,  दूसरी बार या उसके बाद अर्थात पश्चात्वर्ती दोषसिद्धि पर 5 वर्ष कारावास + 5 हजार रुपए आर्थिक दण्ड

आईपीसी धारा 304 क्या है

आईपीसी (IPC) की धारा 292 में  जमानत  (BAIL) का प्रावधान

भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 292 में जिस अपराध की सजा के बारे में बताया गया है उस अपराध को एक जमानती और संज्ञेय अपराध बताया गया है | यहाँ आपको मालूम होना चाहिए कि जमानतीय अपराध होने पर इसमें जमानत मिल जाएगी है, क्योकि  इसको CrPC में संज्ञेय श्रेणी का जमानतीय अपराध में बताया गया है |

आपको आज भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 292 के बारे में जानकारी हो गई होगी | इसमें  क्या अपराध बनता है, कैसे इस धारा को लागू किया जायेगा | इस अपराध को कारित करने पर क्या सजा होगी ?  इन सब के बारे में विस्तार से हमने उल्लेख किया है, साथ ही इसमें जमानत के क्या प्रावधान होंगे ? यदि फिर भी इस धारा से सम्बन्धित या अन्य धाराओं से सम्बंधित किसी भी प्रकार की कुछ भी शंका आपके मन में हो या अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो आप  हमें  कमेंट बॉक्स के माध्यम से अपने प्रश्न और सुझाव हमें भेज सकते है |

आईपीसी धारा 307 क्या है

अपराधसजासंज्ञेयजमानतविचारणीय
अश्लील पुस्तकों का विक्रय आदि।पहली बार दोषसिद्धि 2 वर्ष का कारावास + 2 हजार रुपए जुर्माना, दूसरी बार या उसके बाद 5 वर्ष कारावास + 5 हजार रुपए जुर्माना।संज्ञेयजमानतीयकोई भी मजिस्ट्रेट द्वारा विचारणीय (ट्रायल किया जा सकता)

आईपीसी धारा 308 क्या है

Leave a Comment