कोर्ट मैरिज सर्टिफिकेट डाउनलोड कैसे करें

आपको जानकारी होनी चाहिए कि सर्वोच्च न्यायालय के आदेशानुसार अब उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा भी विवाह का पंजीकरण करना  अनिवार्य कर दिया है। इसके पीछे उद्देश्य यह है कि, समाज में हो रहे बाल विवाह जैसी परम्पराओं पर पर रोक लगायी जा सके। जिससे महिलाओं के अधिकारों के सुरक्षा हो और महिलाओं को सशक्त बनाया जा सके।आज के इस आर्टिकल में हम आपसे यही चर्चा करेंगे कि कोर्ट मैरिज सर्टिफिकेट डाउनलोड कैसे करें ? Check Court Marriage Certificate Status इसके लिए Online Registration कैसे होगा और इसके (Rules) रूल्स क्या होंगे ? इन्ही सब बातो को आज हम देखेंगे |

इस पोर्टल के माध्यम से यहाँ Check Court Marriage Certificate Status | कोर्ट मैरिज सर्टिफिकेट डाउनलोड ऑनलाइन पीडीऍफ़ के बारे में पूर्ण रूप से बात होगी | साथ ही इस पोर्टल www.nocriminals.org पर अन्य कानूनी प्रक्रिया की महत्वपूर्ण बातों के बारे में विस्तार से बताया गया है आप उन आर्टिकल के माध्यम से कानूनी प्रक्रिया के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं |

Child Adoption Process in Hindi

क्या है (Court Marriage) कोर्ट मैरिज?

कोर्ट मैरिज की जब हम बात करते हैं तो ये आमतौर पर होने वाली शादियों से बिलकुल अलग होती है। इसे किसी परंपरागत समारोह के बिना ही कोर्ट में मैरिज ऑफिसर के सामने संपन्न किया जाता  है। विशेष विवाह अधिनियम के अंतर्गत ही सभी कोर्ट मैरिज की जाती हैं। कोर्ट मैरिज किसी भी धर्म संप्रदाय अथवा जाति के बालिग युवक-युवती के बीच हो सकती है। यहाँ आपको बता दें कि किसी विदेशी व भारतीय की भी कोर्ट मैरिज हो सकती है। कोर्ट मैरिज करने के लिए मैरिज रजिस्ट्रार के समक्ष आवेदन करना होता है।

लिखित संविधान का क्या अर्थ है

क्या है (Court Marriage Certificate) कोर्ट मैरिज सर्टिफिकेट ?

शादी के बाद नए जीवन की शुरुआत होती है और इसे बेहद महत्वपूर्ण माना जाता है। लेकिन  जितना अधिक महत्त्व हमारे यहाँ शादी को दिया जाता है उतना ही शादी के पंजीकरण को लेकर लापरवाही देखने को मिलती है।

“विवाह के पंजीकरण के नियम को संविधान में जगह दी गई और इसके तहत भारत में रहने वाले सभी लोगों का विवाह -पंजीकरण अनिवार्य कर दिया गया। बता दें कि आप कभी विदेश यात्रा करना चाहें तो ऐसे में पासपोर्ट या वीजा हेतु आवेदन करने से पहले आपकी पत्नी के पास विवाह प्रमाण-पत्र होना आवश्यक है।“

भारतीय संविधान सभा का गठन कब हुआ था

कोर्ट मैरिज सर्टिफिकेट डाउनलोड ऑनलाइन

  • सबसे पहले आपको official website igrsup: igrsup.gov.in.पर विजिट करना होगा |
  • फिर इसके बाद दाहिनी तरफ “विवाह पंजीकरण” सेक्शन को क्लिक करना होगा |
  • इसके बाद  “आवेदन करें” को क्लिक करना होगा |
  • इसके बाद एक फॉर्म खुल कर आयेगा |

भारतीय संविधान की 11वीं अनुसूची क्या है

  • इसमें आपको  “I give my consent” सेलेक्ट करना होगा |
  • इसके बाद दोबारा “Yes” for mobile linked with Aadhaar Card सेलेक्ट करना होगा | 
  • इसके पश्चात “आवेदन विवाह पंजीकरण”  बटन को क्लिक करना होगा |
  • इसके बाद अगले पेज पर जाना होगा |

Juvenile Justice Act 2000 in Hindi

  • इस फॉर्म को पूरा सही से भरना होगा |
  • फार्म भर के सबमिट बटन को क्लिक करना होगा |
  • इसके बाद  online payment करना होगा |
  • अब आपने successfully applied for Marriage Certificate भर दिया है |

पॉक्सो एक्ट क्या है

Check Court Marriage Certificate Status

  1. igrsup की ऑफिसियल website  igrsup.gov.in. पर विजिट करना होगा |
  2. आधार आधारित विवाह पंजीकरण सत्यापन पर क्लिककर्ण होगा |
  3. सर्टिफिकेट नंबर या  Application Number, Date of Marriage, and Captcha Code को डालने के बाद |
  4. सर्च के बटन को क्लिक करना होगा |
  5. Marriage Certificate के डिटेल्स आपको दिखने लगेगी |

घरेलू हिंसा अधिनियम क्या है

कोर्ट मैरिज सर्टिफिकेट के लिए शर्तें (Conditions for Court Marriage Certificate

  • पूर्व में कोई विवाह ना हुआ हो यह  नियम बताता है कि इस कानूनी प्रक्रिया के तहत पहले दोनों पक्ष यह सुनिश्चित करना होगा कि उनका कोई भी पूर्व विवाह तो नहीं हुआ है अगर हुआ है तो वह वैध ना हो। दूसरी बात दोनों पक्षों की पहली शादी से जुड़े पति या पत्नी जीवित ना हों।
  • लीगली रेडी इसका अर्थ है कि आपसी रिश्तेदारी में शादी नहीं हो सकती है। यानि बुआ, बहन आदि। यह नियम केवल हिन्दुओं पर लागू है। मैरिज के समय दोनों ही पक्ष यानि वर व वधू अपनी वैध सहमति यानि ‘लीगली रेडी’ देने के लिए सक्षम होने चाहिए। सक्षम का अर्थ है कि प्रक्रिया में स्वेच्छा से शामिल होना।
  • उम्र बहुत मायने रखती है, कोर्ट मैरिज के लिए पुरुष की आयु 21 वर्ष से ज्यादा तथा महिला की उम्र 18 वर्ष से ज्यादा होना बहुत अनिवार्य  है। साथ ही दोनों ही मानसिक रूप से स्टेबल यानि स्वस्थ होने चाहिए।

तलाक (Divorce) कैसे होता है

कोर्ट मैरिज सर्टिफिकेट के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • आवेदन पत्र और अनिवार्य शुल्क |
  • दूल्हा-दुल्हन के पासपोर्ट साइज के 4 फोटोग्राफ |
  • पहचान प्रमाण पत्र (आधार कार्ड या ड्राइविंग लाइसेंस की कॉपी) |
  • कोर्ट मैरिज के लिए हर राज्य की फीस अलग होती है, लेकिन इसका शुरुआत शुल्क 500 से 1000 रुपये होता है |
  • 10TH /12TH  की मार्कशीट या जन्म प्रमाण पत्र |
  • शपथ पत्र जिससे ये साबित हो कि दूल्हा-दुल्हन में कोई भी किसी अवैध रिश्ते में नहीं है।
  • गवाहों की फोटो व पैन कार्ड |
  • अगर तलाक़शुदा है तो तलाक के पेपर, या फिर पूर्व पति-पत्नी मृत हैं तो उनका डेथ सर्टिफिकेट |

कारण बताओ (शो कॉज) नोटिस क्या है

मैरिज रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट की आवश्यकता कहाँ होती है

आज कल मैरिज रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट की आवश्यकता लगभग हर जगह होती है जैसे पासपोर्ट अप्लाई करने के लिए, नया बैंक अकाउंट खोलने के लिए, वीजा अप्लाई करने के लिए। शादी के बाद विदेश में सेटल होने के लिए भी शादी का रजिस्ट्रेशन और उसका सर्टिफिकेट जरूरी होता है।

लोन एग्रीमेंट क्या होता है

उपरोक्त वर्णन से आपको आज Check Court Marriage Certificate Status | कोर्ट मैरिज सर्टिफिकेट डाउनलोड ऑनलाइन पीडीऍफ़ इसके बारे में जानकारी हो गई होगी | Court Marriage Certificate Status | कोर्ट मैरिज सर्टिफिकेट डाउनलोड ऑनलाइन इसके बारे में विस्तार से हमने उल्लेख किया है, यदि फिर भी इससे सम्बन्धित या अन्य किसी भी प्रकार की कुछ भी शंका आपके मन में हो या अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो आप  हमें  कमेंट  बॉक्स  के  माध्यम  से अपने प्रश्न और सुझाव हमें भेज सकते है | इसको अपने मित्रो के साथ शेयर जरूर करें |

पार्टनरशिप डीड क्या है

Leave a Comment