एम्प्लोयी एग्रीमेंट फॉर्मेट | Employee Bond/Agreement Format

भारत में बेरोजगारी की समस्या से सभी लोग अच्छी तरह से वाकिफ है, हालाँकि बेरोजगारी कम करनें के लिए सरकार द्वारा निरंतर प्रयास जारी है | आज किसी भी क्षेत्र में रोजगार प्राप्त करनें के लिए कम्पनी द्वारा निर्धारित शर्तों को मानना पड़ता है | बड़ी-बड़ी कम्पनियां एक नये कर्मचारी को नियुक्त करते समय कम्पनी अपनी कुछ शर्तों और नियमों के बारें में बताती है |

यहाँ पर आज आपको एम्प्लोयी एग्रीमेंट फॉर्मेट | Employee Bond/Agreement Format Explained in Hindi (Word | PDF Sample) कैसे बनता है, इसके बारे में बताने का प्रयास करेंगे | आज के आर्टिकल में आप जानेगे कि एम्प्लोयी एग्रीमेंट फॉर्मेट | Employee Bond/Agreement Format  किसे कहते है, एम्प्लोयी एग्रीमेंट फॉर्मेट | Employee Bond/Agreement कैसे बनता है  इन सब पर पूर्ण रूप से चर्चा की गई है | साथ ही इस पोर्टल www.nocriminals.org पर  अन्य महत्वपूर्ण लॉ से सम्बन्धित  बातों को विस्तार से बताया गया है आप उन आर्टिकल के माध्यम से उनके बारे में भी जानकारी  ले सकते हैं |

यदि कर्मचारी इन नियमों के अनुरूप कार्य करनें को तैयार है, तो कर्मचारी और नियोक्ता के बीच निर्धारित शर्तों को लेकर एक लिखित दस्तावेज तैयार किया जाता है, जिसे हम एम्प्लोयी एग्रीमेंट कहते है | इस एग्रीमेंट पर नियोक्ता और कर्मचारी दोनों के हस्ताक्षर होते है |  यहाँ आपको इसमें कौन-कौन सी शर्ते शामिल होती है |

वसीयत (Will) क्या होती है

एम्प्लोयी एग्रीमेंट क्या होता है (What Is Employee Agreement)          

एम्प्लोयी एग्रीमेंट को हिंदी में कर्मचारी अनुबंध या कर्मचारी समझौता कहते है | एम्प्लोयी एग्रीमेंट नियोक्ता और कर्मचारी के बीच एक लिखित समझौता है, जो उनके आपसी दायित्वों को निर्धारित करता है | समझौते के तहत, नियोक्ता कर्मचारी को नौकरी देने, समय पर सैलरी देने और कार्य करने की उचित स्थिति सुनिश्चित करने का कार्य करता है, और कर्मचारी अपने कर्तव्यों को ईमानदारी से पूरा करने और कंपनी के नियमों का पालन करने का वचन देता है |

इस एग्रीमेंट पर इस एग्रीमेंट पर नियोक्ता और कर्मचारी दोनों के हस्ताक्षर होते है | यदि कर्मचारी और नियोक्ता कोई भी एग्रीमेंट के अनुसार अपनी शर्तों को पूरा नहीं करता है, तो दूसरा पक्ष कानूनी रूप से कार्यवाही कर सकता है |

शपथ पत्र (Affidavit) क्या होता है

एम्प्लोयी एग्रीमेंट में शामिल तथ्यों का विवरण

(Description of facts included in the Employee Agreement)

एम्प्लोयी एग्रीमेंट में नियोक्ता और कर्मचारी दोनों के अधिकारों और जिम्मेदारियों के बारें में स्पष्ट रूप से लिखा जाता है, इसमें शामिल तथ्य इस प्रकार है-  

नियोक्ता और कर्मचारी का नाम (Employer and Employee Name)

एम्प्लोयी एग्रीमेंट में नियोक्ता और कर्मचारी के नाम के साथ-साथ उसके पते के बारें में पूरा विवरण अंकित किया जाता है, जो कानूनी नोटिस जारी करनें में एक अहम् रोल निभाता है |    

पॉवर ऑफ़ अटॉर्नी क्या है    

कार्य करनें का समय (Time to work)

कर्मचारी अनुबंध में कर्मचारी के ऑफिस आने का समय, कार्य करनें का समय और कार्य समाप्ति के पश्चात जानें के समय मके बारें में पूरा विवरण अंकित किया जाता है| यदि आप अपनें कार्य के प्रति लगनशील नहीं है, या समय से कार्य करनें में असफल है तो कम्पनी या नियोक्ता को लिखित रूप से नोटिस देने का अधिकार है| यदि नोटिस देने के बाद भी नियोक्ता आपके कार्य से संतुष्ट नहीं है, तो आपको नौकरी से हटाया भी जा सकता है|

अवकाश या छुट्टियों का विवरण (Description of Holidays)

एम्प्लोयी एग्रीमेंट में छुट्टियों के बारें में भी सभी जानकारी स्पष्ट रूप से अंकित की जाती है| आपको एक माह में कितनी छुट्टियाँ मिलेगी, और आप एक महीनें में कितनी छुट्टियाँ ले सकते है | छुट्टी के लिए आपको कितने दिनों पहले सूचित करना है | यदि आप बिना सूचना के अनुपस्थित होते है, तो इस स्थिति में आपकी कितनी सैलरी कटेगी आदि |

एमओयू क्या है 

ओवरटाइम का विवरण (Overtime Details)

कभी-कभी कम्पनियों में कार्य अधिक होनें के कारण या अकस्मात् कोई ऐसा आर्डर मिल गया है, जिसे एक निश्चित समय पर पूरा करना है और कम्पनी को लगता है, कि यह कार्य वह दिए गये समय पर पूरा नहीं कर पायेगी| तो ऐसी स्थिति में कम्पनी अपनें कर्मचारियों को ओवरटाइम ऑफर करती है,  ओवरटाइम के अंतर्गत आपको प्रति घंटे या किस प्रकार से पे करगी, इसके बारें में पूरा विवरण एम्प्लोयी एग्रीमेंट में अंकित होता है|

सैलरी मिलनें का निर्धारित समय (Salary schedule)

एम्प्लोयी एग्रीमेंट में कर्मचारी कि सैलरी से सम्बंधित पूरा विवरण अंकित होता है| इसमें स्पष्ट रूप सैलरी देनें की निर्धारित तिथि और आपकी सैलरी इनक्रीजमेंट के बारें में लिखा होता है | यदि कम्पनी आपको एग्रीमेंट के अनुसार सैलरी कम या समय पर नहीं दे रही है, तो आप कम्पनी को लिखित नोटिस भेज सकते है|

रोजगार की अवधि (Duration of Employment)

नियोक्ता द्वारा कर्मचारी को कितनें समय के लिए नियुक्त किया जा रहा है, इसका पूरा विवरण एम्प्लोयी एग्रीमेंट में अंकित होता है| यदि एम्प्लोयी निर्धारित समय से पहले कम्पनी को छोड़ता है, तो इस एग्रीमेंट के तहत कम्पनी आपके विरुद्ध कानूनी कार्यवाही कर सकती है| इसके लिए आपको सजा के साथ-साथ जुर्माना भी देना पड़ सकता है|

लीगल नोटिस क्या होता है

एम्प्लोयी एग्रीमेंट पर हस्ताक्षर (Employee Agreement Signed)

कर्मचारी अनुबंध पर नियोक्ता और कर्मचारी दोनों के हस्ताक्षर होना आवश्यक है| यदि एग्रीमेंट पर दोनों में से किसी एक के हस्ताक्षर नहीं है, तो यह एग्रीमेंट एक वैध एक नहीं माना जायेगा| इस प्रकार के एग्रीमेंट से किसी प्रकार कि कानूनी कार्यवाही नहीं कर सकते अर्थात इस लिखित दस्तावेज को एम्प्लोयी एग्रीमेंट या कर्मचारी अनुबंध नहीं कहा जा सकता |            

अन्य शर्तें (Other Conditions) 

सभी कम्पनियों में अलग-अलग तरह के कार्य होते है, इसलिए सभी कम्पनियों में कार्य करनें का समय और शर्ते भी भिन्न-भिन्न होती है| इसलिए एम्प्लोयी एग्रीमेंट में कुछ अन्य शर्तों को भी शामिल किया जा सकता है, जो कम्पनी के ऊपर निर्भर करता है | 

प्रमुख कानूनी शब्दावली

एम्प्लोयी एग्रीमेंट फॉर्मेट (Employment Agreement Format)

कर्मचारी अनुबंध बॉन्ड (Sample)


_________ [स्थान] पर __________, 20___ के दिन, [नियोक्ता का नाम], एक कंपनी पंजीकृत / एक निगम जिसमें [देश-नाम] शामिल है, के बीच ___________________________________________________ इस पते पर, इसके बाद के रूप में संदर्भित किया गया है। नियोक्ता………………….                                                                                                                               तथा

वर्तमान में _____________ [शहर का नाम / पता] में रहने वाले भारतीय कर्मचारी / श्री / श्रीमती ______________, वर्तमान में कर्मचारी के रूप में संदर्भित हैं 

कर्मचारी को उसके बाद और उसके द्वारा निर्दिष्ट सभी नियमों और शर्तों से सहमत होने और पालन करने के लिए बाध्य किया जाएगा जो नियोक्ता द्वारा कर्मचारी के रोजगार की अवधि के दौरान समय-समय पर निर्धारित किए जा सकते हैं।

कर्मचारी की नौकरी का शीर्षक / स्थिति: ___________________

नौकरी करने का स्थान : ___________________

कर्तव्य और उत्तरदायित्व:

कर्मचारी को निम्नलिखित कर्तव्यों और जिम्मेदारियों को प्रदर्शन करने के लिए की आवश्यकता है

(1) –

(2) –

(3) –

(4) –

(5) कोई अन्य कर्तव्य जो समय-समय पर उत्पन्न हो सकता है, या कर्मचारी को सौंपा जा सकता है, और कर्मचारी के रोजगार से संबंधित है|

प्रोबेशन

पहले 3 महीने के कार्य को प्रोबेशन अर्थात परिवीक्षाधीन अवधि माना जाएगा।

वेतनमान (मासिक आधार पर):

 मूल- ………………..

 सामान्य भत्ता-……………..

 चिकित्सा-………………….  

 शैक्षिक भत्ता-…………………

अवकाश

रोजगार की अवधि के दौरान, प्रति वर्ष ____ सप्ताह की राशि छुट्टी के रूप में कर्मचारी के लिए हकदार होगी

काम का शेड्यूल

  • सामान्य कार्य दिवस- सोमवार से शनिवार।
  • दिन की छुट्टी- रविवार और राष्ट्रीय अवकाश।
  • काम के घंटे- प्रति दिन 8 बजे और जहां भी आवश्यक हो, ओवरटाइम।

परफॉरमेंस रिव्युज

वर्ष में कम से कम एक बार प्रदर्शन समीक्षा की जाएगी और समीक्षा प्रक्रिया और मूल्यांकन के हर पहलू पर चर्चा के बाद कर्मचारी को लिखित प्रदर्शन मूल्यांकन प्रदान किया जाएगा।

विवाद

रोजगार के संबंध में किसी भी विवाद के मामले में, जिसे सौहार्दपूर्ण ढंग से नहीं सुलझाया जा सकता है, इसे [शहर के कानूनी अधिकार का नाम] कहा जाएगा।

टर्मिनेशन

या तो पार्टी दूसरे पक्ष को महीने का लिखित नोटिस देकर परिवीक्षाधीन अवधि के सफल समापन पर इस समझौते को समाप्त कर सकती है।

यहां उल्लिखित नियम और शर्तों के लिए किए गए किसी भी संशोधन को तब तक वैध नहीं माना जाएगा जब तक कि नियोक्ता और कर्मचारी दोनों द्वारा लिखित रूप में सहमति नहीं दी जाती है। नियोजित कंपनी और उसके आंतरिक नियम और कानून को नियंत्रित किया जाएगा यदि कोई भी नियम और शर्तें इस समझौते के तहत विशेष रूप से शामिल नहीं हैं।

विटनेस में, और पूर्वगामी की स्वीकृति को स्वीकार करते हुए, नियोक्ता और कर्मचारी अपने हस्ताक्षर एफिटो से चिपकाते हैं।

एम्प्लॉयर   EMPLOYEE                                                                              ________________     ________________                                            कंपनी का नाम [कर्मचारी का नाम]

BY: [नियोक्ता का नाम]

TITLE: [TITLE NAME]

दिनांक: ______________

 विटनेस:                                   विटनेस:

1 ……………………… ..     2 ……………………………   

क्या वकीलों को अपने कार्यों का विज्ञापन देने की अनुमति है 

Leave a Comment