Legal Heir Certificate (वारिस प्रमाण पत्र) in Hindi | Format | Apply Online


जब किसी परिवार के मुख्य सदस्य या मुखिया की अचानक मृत्यु हो जाती है और उनके द्वारा लिखित कोई वसीयत न होनें पर उनकी संपत्ति पर कानूनी रूप से अधिकार करना काफी कठिन हो जाता है| ऐसे में यदि आप वास्तव में उनके वारिस है, तो आप वारिस प्रमाण पत्र (Legal Heir Certificate) के लिए आवेदन कर सकते है और इस प्रमाण पत्र की सहायता से आप संपत्ति पर अधिकार प्राप्त कर सकते है |

इसके अलावा यदि आप परिवार के सदस्य नहीं है, या फिर किसी व्यक्ति के घर में उसका कोई उत्तराधिकारी नहीं है तो किसी को भी वारिस बनाया जा सकता है | वारिस बनने के लिए परिवार का सदस्य होना जरूरी नहीं है | इसके लिए हकदार आप सम्पत्ति मालिक की मृत्यु के पश्चात् ही माने जायेंगे | यदि अपने जीवित समय में सम्पत्ति मालिक चाहे तो वारिस को बदल भी सकता है | दरअसल वारिस प्रमाण पत्र के माध्यम से आप यह सिद्ध कर सकते है, कि आप ही इस सम्पत्ति के हकदार है |

CPC Bare Act in Hindi 



इस पोर्टल के माध्यम से यहाँ Legal Heir Certificate (वारिस प्रमाण पत्र) in Hindi | Format | Apply Online इसके बारे में पूर्ण रूप से बात होगी | साथ ही इस पोर्टल www.nocriminals.org पर अन्य संविधान की महत्वपूर्ण बातों और उसकी प्रमुख विशेषताओं के बारे में विस्तार से बताया गया है आप उन आर्टिकल के माध्यम से संविधान के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं |

सीआरपीसी (दण्ड प्रक्रिया संहिता) क्या है

वारिस प्रमाण पत्र क्या होता है (What Is Legal Heir Certificate)

किसी परिवार के मुख्य सदस्य के आकस्मिक निधन की स्थिति में उनकी संपत्ति या संपत्ति के वास्तविक मालिक का निर्धारण करने के लिए वारिस प्रमाण पत्र (Legal Heir Certificate) सरकार द्वारा जारी किया गया एक दस्तावेज होता है | इस प्रमाण पत्र का उपयोग मृतक व्यक्ति के साथ बीमा, पेंशन, केंद्र और राज्य सरकार के विभागों से सेवानिवृत्ति लाभ आदि प्राप्त करनें के लिए मृतक व्यक्ति के साथ वारिस होने को सत्यापित करने के लिए किया जाता है |

कानूनी वारिस प्रमाण पत्र परिवार के मुखिया की मृत्यु होने पर अगले कानूनी वारिस की नियुक्ति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है | यह कानूनी वारिस मृतक की पत्नी / पति / पुत्र / पुत्री / माता/ भाई या परिवार या रिश्तेदार कोई अन्य भी हो सकता है, जिसे सम्पत्ति का हकदार माना जायेगा|  यदि मृतक व्यक्ति सरकारी कर्मचारी है, तो पेंशन का दावा करने के लिए वारिस प्रमाण पत्र का उपयोग किया जाता है | इसके साथ-साथ इस प्रमाणपत्र का प्रयोग मृतक की चल और अचल दोनों प्रकार की संपत्तियों के हस्तांतरण के लिए भी किया जाता है |

शपथ पत्र (Affidavit) क्या होता है

वारिस प्रमाण पत्र के उपयोग (Use Of Legal Heir Certificate)

  • फॅमिली पेंशन (Family Pension)
  • सैलरी एरियर (Salary Arrear) 
  • प्रोविडेंट फण्ड (Provident Fund)
  • ग्रेच्युटी (Gratuity)
  • सर्विस बेनिफिट्स (Service benefits)
  • टेलीफोन, इलेक्ट्रिसिटी कनेक्शन ट्रांसफर करने के लिए (Telephone, Electricity Connection Transfer)
  • हाउस टैक्स (House Tax)
  • पट्टा ट्रांसफर करने के लिए (Patta Transfer)
  • बैंक अकाउंट ट्रांसफर करने के लिए (Bank Account Transfer)
  • इन्शुरन्स क्लेम करने के लिए (Insurance Claim)
  • अनुकम्पा नियुक्ति (Compassionate Appointment)

परिवाद पत्र क्या है

वारिस प्रमाण पत्र बनवानें हेतु दस्तावेज (Documents For Legal Heir Certificate)

वारिस प्रमाण पत्र बनवानें के लिए आपको कुछ आवश्यक डाक्यूमेंट्स की आवश्यकता होती है, जो इस प्रकार है-

  • मृत्यु प्रमाण पत्र (Death Certificate)
  • निवास का प्रमाण (Address Proof)
  • मृतक और आवेदक का आधार कार्ड (Aadhaar Card Of Deceased & Applicant)
  • घोषणा पत्र या हलफनामा (Self Declaration or Affidavit)
  • पेंशन पेमेंट स्लिप (Pension Payment Slip)

वादी (Petitioner), प्रतिवादी (Respondent) क्या होता है

वारिस प्रमाण पत्र बनवानें का अधिकार (Right To Get Heir Certificate)

  • मृतक की पत्नी या पति (Deceased Wife or Husband)
  • मृतक व्यक्ति का बेटा या बेटी (Son or Daughter of Deceased Person)
  • मृतक व्यक्ति के माता या पिता (Mother or Father of Deceased Person)
  • मृतक का भाई (Brother of Deceased Person)

आरोप पत्र क्या होता है 

कानूनी वारिस प्रमाणपत्र और उत्तराधिकार प्रमाण पत्र में अंतर (Difference Between Legal Heir Certificate & Succession Certificate)

कानूनी वारिस प्रमाणपत्र और उत्तराधिकार प्रमाण पत्र दोनों एक दूसरे से पूरी तरह से अलग हैं। हालाँकि कुछ लोग इसे एक ही प्रमाण पत्र समझता है, जबकि वास्तविकता में इन दोनों प्रमाण पत्रों के उपयोग अलग-अलग उद्देश्यों की पूर्ति के लिए किया जाता है| इनमें मुख्य अंतर इस प्रकार है-

  • उत्तराधिकार प्रमाण पत्र सिविल कोर्ट से बनता है, जबकि वारिस प्रमाण पत्र क्षेत्र के  तहसीलदार / संबंधित क्षेत्र के निगम / नगर पालिका कार्यालय और जिला नागरिक अदालत से प्राप्त होता है |
  • वारिस प्रमाण पत्र के लिए मृतक व्यक्ति की पत्नी/पति, बेटा/बेटी या उनके माता-पिता या अन्य कोई रिश्तेदार भी आवेदन कर सकता है | जबकि उत्तराधिकार प्रमाण पत्र के लिए सिर्फ मृतक व्यक्ति के पारिवारिक सदस्य ही आवेदन कर पाएंगे |
  • कानूनी वारिस प्रमाण पत्र बननें में लगभग 15 से 30 दिन का समय लगता है, जबकि उत्तराधिकार प्रमाण पत्र में 6 माह या इससे भी अधिक समय लग सकता है |
  • वारिस प्रमाण पत्र बनवानें में नाम मात्र का शुल्क लगता है, जबकि सक्सेशन सर्टिफिकेट के लिए सम्पति के मूल्य का लगभग 3 प्रतिशत और अन्य खर्च शामिल होते है।
  • वारिस प्रमाण पत्र बनवानें वाले आवेदक को चेलेन्ज नहीं किया जा सकता जबकि उत्तराधिकार प्रमाण पत्र के अप्लिकेंट को 45 दिनों के अंदर चेलेन्ज किया जा सकता है|
  • वारिस प्रमाण पत्र का उपयोग जैसे कि बीमा क्लेम, वाहन का ट्रान्सफर आदि कार्यों में किया जाता है, जबकि सक्सेशन सर्टिफिकेट प्रॉपर्टी या पजेशन ट्रान्सफर करनें में प्रयोग किया जाता है |  

आईपीसी धारा 124 A क्या है

वारिस प्रमाण पत्र ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया (Legal Heir Certificate Online Application Process)

  • Legal Heir Certificate बनवानें के लिए आप https://serviceonline.gov.in पर जाएँ |
  • यदि आप पहले से रजिस्टर नहीं है, तो रजिस्टर करनें के लिए होम पेज पर Register पर क्लिक करे |
  • अब आपके सामनें एक फार्म ओपन होगा, जिसमें पूछी गयी सभी जानकारी दर्ज कर Submit पर क्लिक करे |
  • अब आपको होम पेज पर अपनी User ID और Password से Login करे |
  • लॉग इन करते ही आपके सामनें एक नया पेज ओपन होगा, जिसमें आपको Apply For Services में View all Available Services पर क्लिक करे |

आर्टिकल (Anuched) 21 क्या है

  • अब आपके सामनें एक फार्म ओपन होगा जिसमें पूरी गयी सभी जानकारी जैसे नाम, पता आदि दर्ज कर Submit पर क्लिक करे |
  • अब आपके सामने एक नया फार्म ओपन होगा जिसमें मांगे गये सभी डाक्यूमेंट्स को अपलोड कर Submit पर क्लिक करना है |
  • अब आपके सामनें एक एकनालेजमेंट ओपन होगा, जिसे आप डाउनलोड कर सकते है |
  • इस प्रकार आपके वारिस प्रमाण पत्र आवेदन की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी |

पॉक्सो एक्ट क्या है

उपरोक्त वर्णन से आपको आज Legal Heir Certificate (वारिस प्रमाण पत्र) in Hindi | Format | Apply Online इसके बारे में जानकारी हो गई होगी | Legal Heir Certificate (वारिस प्रमाण पत्र) के बारे में विस्तार से हमने उल्लेख किया है, यदि फिर भी इससे सम्बन्धित या अन्य किसी भी प्रकार की कुछ भी शंका आपके मन में हो या अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो आप  हमें  कमेंट  बॉक्स  के  माध्यम  से अपने प्रश्न और सुझाव हमें भेज सकते है | इसको अपने मित्रो के साथ शेयर जरूर करें |

Child Adoption Process in Hindi 

यदि आप अपने सवाल का उत्तर प्राइवेट चाहते है तो आप अपना सवाल कांटेक्ट फॉर्म के माध्यम से पूछें |

Leave a Comment