साइबर कानून (लॉ) क्या है | Cyber Law Expert कैसे बने | कोर्स, फ़ीस, करियर

वर्तमान समय में व्हाट्सएप, ट्विटर और इन्स्टाग्राम या किसी के अकाउंट को हैक करनें को लेकर प्रतिदिन खबरे मिलती रहती है | इसके साथ ही बैंक अकाउंट से पैसे चोरी हो जाना एक आम बात हो गयी है | आज जिस गति से टेक्नोलाजी विकसित हो रही है, उसी गति से लोगो की निर्भरता इंटरनेट पर बढ़ती जा रही है | इन्टरनेट के इस बढ़ते क्रेज में कुछ ऐसे एक्सपर्ट होते है, जो पल भर में आपके कंप्यूटर को हैक कर सकते है, इन एक्सपर्ट्स को आम बोलचाल की भाषा में हैकर कहा जाता है |

इन्टरनेट के बढ़ते उपयोग के कारण आज साइबर क्राइम से जुड़े अपराधों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है | हालाँकि इससे निपटनें के लिए दुनिया के अन्य देशों की तरह हमारे देश में भी अपने साइबर कानून हैं और इस साइबर कानून से संबंधित जानकारी रखनें वाले को साइबर लॉ एक्सपर्ट कहते है | तो आईये जानते है, कि साइबर कानून (लॉ) क्या है, Cyber Law Expert  कैसे बने, कोर्स, फीस और करियर के बारें में |  

वकील (अधिवक्ता) कैसे बने   

इस पोर्टल के माध्यम से साइबर कानून (लॉ) क्या है | Cyber Law Expert कैसे बने | कोर्स, फ़ीस, करियर  के बारे में पूर्ण रूप से बात होगी | साथ ही इस पोर्टल www.nocriminals.org पर अन्य महत्वपूर्ण कानून (लॉ) के बारे में विस्तार से बताया गया है आप उन आर्टिकल के माध्यम से अन्य कानून (लॉ)  के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं |

कारण बताओ (शो कॉज) नोटिस क्या है

साइबर कानून (लॉ) क्या है (What is CyberLaw)

ऑनलाइन माध्यम से किए जाने वाले अपराध को साइबर क्राइम कहा जाता है | आपको बता दें, कि पूरी दुनिया में साइबर स्पेस का अपना एक कानून है, जिसका मुख्य उद्देश्य इंटरनेट के माध्यम से होने वाले अपराधों पर लगाम लगाना है | इंटरनेट के द्वारा किये जाने वाले अपराधों के हाईटेक रूप से साइबर क्राइम कहा जाता है | साइबर क्राइम के अंतर्गत इंटरनेट की मदद से क्रेडिट कार्ड चोरी, ब्लैकमेलिंग, स्टॉकिंग, पोर्नोग्राफी जैसे अपराधों को अंजाम दिया जाता है |

साइबर क्राइम से जुड़े अपराधों से निपटने और उनकी सजा के लिए अंतरराष्ट्रीय कानूनी प्रावधान बनाए गए हैं, ऐसे प्रावधान साइबर लॉ के अंतर्गत आते हैं | भारत में सूचना प्रौद्योगिकी कानून (आईटी कानून) 2000, आईटी (संशोधन) अधिनियम 2008 द्वारा संशोधित साइबर कानून के रूप में जाना जाता है | साइबर लॉ के अंतर्गत साइबर अपराध करनें वाले अपराधियों की पहचान कर सजा देने का प्राविधान है | 

लोन एग्रीमेंट क्या होता है 

साइबर लॉ एक्सपर्ट की डिमांड (Cyber ​​Law Expert Demand)

आज के इस डिजिटल युग में इन्टरनेट और कंप्यूटर में लोगों की निर्भरता बढ़ती जा रही है, जिसके कारण साइबर क्राइम निरंतर बढ़ता जा रहा है | हालाँकि साइबर अपराध साधारणतय: किसी प्रकार की हिंसा नहीं फैलाते, परन्तु किसी व्यक्ति के चरित्र से जुड़े कमजोर पहलू और लालच, सम्मान के साथ खेल कर विभिन्न अपराधों को जन्म देते हैं | ऐसे में साइबर क्राइम पर प्रतिबन्ध लगाने के लिए विशेषज्ञों की मांग बढ़ती जा रही है, क्योंकि सामान्य पुलिस और कानून ऐसे अपराधियों से निपटने में सक्षम नहीं है |

काला कोट ही क्यों पहनते हैं वकील



साइबर लॉ एक्सपर्ट कैसे बनें (How To Become a Cyber Law Expert)

साइबर लॉ में करियर बनाने के लिए अभ्यर्थी को किसी भी विषय में स्नातक अर्थात ग्रेजुएशन की डिग्री का होना आवश्यक है। वहीं यदि आप साइबर लॉ के पोस्ट ग्रेजुएशन प्रोग्राम में प्रवेश लेना चाहते हैं, तो इसके लिए आपके पास एलएलबी की डिग्री का होना आवश्यक है।

पार्टनरशिप डीड क्या है

साइबर लॉ कोर्स (Cyber Law Course)

साइबर लॉ में तकनीकी विषयों के साथ-साथ कानूनी पहलुओं के विषय में भी पढ़ाया जाता है। इसके पाठ्यक्रम में टेक्नोलॉजी और लॉ दोनों विषयशामिल होते है | एक साइबर लॉ एक्सपर्ट के रूप में करियर बनाने के लिए आपको पर्सनल लॉ, टेलीकॉम लॉ, कम्पनी लॉ और इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी लॉ जैसे कानूनों की बारें में अच्छी जानकारी होनी चाहिए। हालाँकि वर्तमान समय में कई ऐसे शिक्षण संस्थान है, जहाँ अनेक प्रकार के शॉर्ट टर्म और लॉन्ग टर्म कोर्स उपलब्ध हैं | इनमें से कुछ ऐसे कोर्स है, जिन्हें आप ऑफलाइन भी कर सकते हैं | साइबर लॉ से सम्बंधित कोर्स की न्यूनतम अवधि 6 माह और अधिकतम अवधि 2 वर्ष है |

बिक्री विलेख पंजीकरण         

करियर के अवसर (Career Opportunities)

निरंतर बढ़ती हुई तकनीक नें साइबर वर्ल्ड को जन्म दिया है और इस साइबर वर्ल्ड में साइबर स्पेस भी आता है | जिससे सूचना और तकनीक के क्षेत्र में आये दिन नए-नए बदलाव हो रहे हैं, जिसके कारण अनेक प्रकार की नई चुनौतियां उत्पन्न हो रही है | वही दूसरी ओर इन्टरनेट टिकटिंग, ईबैंकिंग, ई-कॉमर्स और ई-गवर्नेंस आदि की लोकप्रियता बढ़नें से साइबर अपराध लगातार बढ़ते जा रहे हैं |

इस प्रकार के अपराधों को सुलझाने के लिए निजी आइटी, कंप्यूटर या इंटरनेट बेस्ड कंपनीज से लेकर सरकारी एजेंसियां साइबर लॉ एक्सपर्ट्स को हायर कर रही हैं | एक साइबर लॉयर या लॉ एक्सपर्ट खासकर पुलिस विभाग, किसी भी बैंक, किसी तकनीकी फर्म या कॉरपोरेट ऑर्गेनाइजेशन में बतौर साइबर सलाहकार, रिसर्च असिस्टेंट या एडवाइजर के रूप में कार्य कर सकते है |

Rental Agreement Format in Hindi   

साइबर लॉ एक्सपर्ट सैलरी (Cyber ​​Law Expert Salary)

एक साइबर लॉ एक्सपर्ट की सैलरी उसके अनुभव पर निर्भर करती है, हालाँकि एक फ्रेशर कोशुरुआत में  लगभग 10 से 25 हजार रुपये मिलते हैं, और अनुभव बढनें के साथ-साथ सैलरी ग्रोथ होती रहती है|  वहीं कार्पोरेट और लॉ फर्मों में एक लॉयर के रूप में कार्य करनें पर लगभग 40 से 50,000 रुपए प्रतिमाह से शुरुआत होती हैं।

प्रमुख कानूनी शब्दावली

साइबर लॉ कोर्स करने हेतु प्रमुख शिक्षण संस्थान (Educational Institutes for Cyber Law Courses)

  • एमिटी लॉ स्कूल, दिल्ली
  • नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, जोधपुर।
  • इंडियन लॉ इंस्टीट्यूट, नई दिल्ली।
  • सिबायोसिस सोसायटी लॉ कॉलेज, पुणे।
  • फैकल्टी ऑफ लॉ, लखनऊ यूनिवर्सिटी, लखनऊ।
  • स्कूल ऑफ लीगल स्टडीज, हिमाचल यूनिवर्सिटी, शिमला।
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, इलाहाबाद।
  • नेशनल लॉ स्कूल ऑफ इंडिया, यूनिवर्सिटी ऑफ बेंगलुरु
  • साइबर लॉ कॉलेज चेन्नई/मैसूर/हुबली/मंगलोर/बेंगलुरु।
  • पश्चिम बंगाल नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ज्यूडिशियल साइंस, कोलकाता।
  • जागरण इंस्टीटयूट ऑफ मैनेजमेंट ऐंड मास कम्युनिकेशन, नोएडा|

एमओयू क्या है

मित्रों उपरोक्त वर्णन से आपको आज साइबर कानून (लॉ) क्या है | Cyber Law Expert कैसे बने | कोर्स, फ़ीस, करियर के बारे में जानकारी हो गई होगी | इन सब के बारे में विस्तार से हमने उल्लेख किया है, यदि फिर भी इससे सम्बन्धित या अन्य अधिनियम से सम्बंधित किसी भी प्रकार की कुछ भी शंका आपके मन में हो या अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो आप  हमें  कमेंट  बॉक्स  के  माध्यम  से अपने प्रश्न और सुझाव हमें भेज सकते है | इसको अपने मित्रो के साथ शेयर जरूर करें |

लीगल नोटिस क्या होता है

Leave a Comment