पॉक्सो एक्ट धारा 46 क्या है | Pocso Act Section 46 in Hindi – विवरण


पॉक्सो एक्ट की धारा 46 क्या है

आज हम आपके लिए इस पेज पर पॉक्सो एक्ट (Pocso Act) की धारा 46 की जानकारी लेकर आये है | यहाँ हम आपको बताएँगे  कि पॉक्सो एक्ट (Pocso Act) की धारा 46 किस प्रकार से परिभाषित की गई है और इसका क्या अर्थ है ? पॉक्सो एक्ट की धारा 46 क्या है, इसके बारे में आप यहाँ जानेंगे |

कठिनाइयां दूर करने की शक्ति

इस पोर्टल के माध्यम से यहाँ धारा 46 क्या बताती है ? इसके बारे में पूर्ण रूप से बात होगी | साथ ही इस पोर्टल www.nocriminals.org पर अन्य पॉक्सो एक्ट (Pocso Act) की महत्वपूर्ण धाराओं के बारे में विस्तार से बताया गया है आप उन आर्टिकल के माध्यम से अन्य धाराओं के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं |

पॉक्सो एक्ट धारा 31 क्या है
पॉक्सो एक्ट धारा 32 क्या है
पॉक्सो एक्ट धारा 33 क्या है
पॉक्सो एक्ट धारा 34 क्या है
पॉक्सो एक्ट धारा 35 क्या है
पॉक्सो एक्ट धारा 36 क्या है
पॉक्सो एक्ट धारा 37 क्या है 
पॉक्सो एक्ट धारा 38 क्या है
पॉक्सो एक्ट धारा 39 क्या है 
पॉक्सो एक्ट धारा 40 क्या है

[Pocso Act Sec. 46 in Hindi]

पॉक्सो एक्ट धारा 45 क्या है



Pocso Act (पॉक्सो एक्ट) की धारा 46 के अनुसार :-

कठिनाइयां दूर करने की शक्ति

 (1) यदि इस अधिनियम के उपबंधों को प्रभावी करने में कोई कठिनाई उत्पन्न होती है तो केन्द्रीय सरकार, राजपत्र में प्रकाशित आदेश द्वारा, ऐसे उपबंध कर सकेगी, जो उसे कठिनाइयां दूर करने के लिए आवश्यक या समीचीन प्रतीत हों और जो इस अधिनियम के उपबंधों से असंगत न हों:

परंतु कोई आदेश इस धारा के अधीन इस अधिनियम के प्रारंभ से दो वर्ष की अवधि की समाप्ति के पश्चात् नहीं किया जाएगा।

(2) इस धारा के अधीन किया गया प्रत्येक आदेश किए जाने के पश्चात्, यथाशीघ्र, संसद् के प्रत्येक सदन के समक्ष रखा जाएगा।

According to Pocso Act Section 46 –     “ Power to remove difficulties  ”–

 (1) If any difficulty arises in giving effect to the provisions of this Act, the Central Government may, by order published in the Official Gazette, make such provisions not inconsistent with the provisions of this Act as may appear to it to be necessary or expedient for removal of the difficulty:

Provided that no order shall be made under this section after the expiry of the period of two years from the commencement of this Act.

(2) Every order made under this section shall be laid, as soon as may be after it is made, before each House of Parliament.

पॉक्सो एक्ट धारा 44 क्या है

 मित्रों उपरोक्त वर्णन से आपको आज पॉक्सो एक्ट (Pocso Act) की धारा 46 के बारे में जानकारी हो गई होगी | कैसे  इस धारा  को  लागू  किया जायेगा ?  इन सब के बारे में विस्तार से हमने उल्लेख किया है, यदि फिर भी इस धारा से सम्बन्धित या अन्य धाराओं से सम्बंधित किसी भी प्रकार की कुछ भी शंका आपके मन में हो या अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो आप  हमें  कमेंट  बॉक्स  के  माध्यम  से  अपने प्रश्न और  सुझाव हमें भेज सकते है | इसको अपने मित्रो के साथ शेयर जरूर करें |

पॉक्सो एक्ट धारा 43 क्या है

यदि आप अपने सवाल का उत्तर प्राइवेट चाहते है तो आप अपना सवाल कांटेक्ट फॉर्म के माध्यम से पूछें |

Leave a Comment